Ambarin Salahuddin's Photo'

अम्बरीन सलाहुद्दीन

पाकिस्तान

नई पीढ़ी की अहम शायरा, अपनी नज़्मों के लिए प्रसिद्ध

नई पीढ़ी की अहम शायरा, अपनी नज़्मों के लिए प्रसिद्ध

ग़ज़ल 13

शेर 8

आप कहें तो तीन ज़माने एक ही लहर में बह निकलें

आप कहें तो सारी बातों में ऐसी आसानी है

उलझती जाती हैं गिर्हें अधूरे लफ़्ज़ों की

हम अपनी बातों के सारे अगर मगर खोलें

तुम जो चाहो तो रुक भी सकता है

वर्ना किस से रुका है आधा दिन

इक मंज़र में इक धुँदले से अक्स में छुप के रो लें

हम किस ख़्वाब में आँखें मूँदें किस में आँखें खोलें

बहुत से लफ़्ज़ दस्तक दे रहे थे

सुकूत-ए-शब में रस्ता खुल रहा था