noImage

अनंनद राम मुख़लिस

शेर 2

फूल पर गुलशन के गोया दाना-ए-शबनम नहीं

आशिक़ों के हाल पर आँखें फिराती है बहार

  • शेयर कीजिए

धूम आने की ये किस की गुलज़ार में पड़ी है

हाथ अरगजी का पियाला नर्गिस लिए खड़ी है

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

Safar Nama Mukhlis

 

1946