ग़ज़ल 10

शेर 8

मौत की आरज़ू में दीवाने

उम्र-भर ज़िंदगी से लड़ते हैं

लफ़्ज़ यूँ ख़ामुशी से लड़ते हैं

जिस तरह ग़म हँसी से लड़ते हैं

मैं मुस्कुराता मगर दी अश्क ने मोहलत

ख़ुशी जब एक मिली साथ ग़म हज़ार मिले

संबंधित शायर

  • इनआम आज़मी इनआम आज़मी समकालीन
  • अभिनंदन पांडे अभिनंदन पांडे समकालीन
  • निवेश साहू निवेश साहू समकालीन
  • अज़हर नवाज़ अज़हर नवाज़ समकालीन
  • ओसामा अमीर ओसामा अमीर समकालीन
  • शाहबाज़ रिज़्वी शाहबाज़ रिज़्वी समकालीन
  • अब्दुर्रहमान मोमिन अब्दुर्रहमान मोमिन समकालीन

"गुजरात" के और शायर

  • उवैस गिराच उवैस गिराच
  • भास्कर शुक्ला भास्कर शुक्ला
  • मरयम ग़ज़ाला मरयम ग़ज़ाला
  • मुस्तफ़ा शब्बीर मुस्तफ़ा शब्बीर