noImage

अनवर महमूद खालिद

गुजरात, पाकिस्तान

पाकिस्तानी शायर, उर्दू के अध्यापक रहे

पाकिस्तानी शायर, उर्दू के अध्यापक रहे

शेर 4

इतना सन्नाटा है कुछ बोलते डर लगता है

साँस लेना भी दिल जाँ पे गिराँ है अब के

हुए असीर तो फिर उम्र भर रिहा हुए

हमारे गिर्द तअल्लुक़ का जाल ऐसा था

इक धमाके से फट जाए कहीं मेरा वजूद

अपना लावा आप बाहर फेंकता रहता हूँ मैं

Added to your favorites

Removed from your favorites