Anwar Mirzapuri's Photo'

अनवर मिर्ज़ापुरी

मिर्ज़ापुर, भारत

1960 और 1970 के दशकों में मुशायरों के लोकप्रिय शायर

1960 और 1970 के दशकों में मुशायरों के लोकप्रिय शायर

अनवर मिर्ज़ापुरी

ग़ज़ल 7

शेर 7

काश हमारी क़िस्मत में ऐसी भी कोई शाम जाए

इक चाँद फ़लक पर निकला हो इक चाँद सर-ए-बाम जाए

मिरे अश्क भी हैं इस में ये शराब उबल जाए

मिरा जाम छूने वाले तिरा हाथ जल जाए

अभी रात कुछ है बाक़ी उठा नक़ाब साक़ी

तिरा रिंद गिरते गिरते कहीं फिर सँभल जाए

अकेला पा के मुझ को याद उन की तो जाती है

मगर फिर लौट कर जाती नहीं मैं कैसे सो जाऊँ

मुझे फूँकने से पहले मिरा दिल निकाल लेना

ये किसी की है अमानत मिरे साथ जल जाए

वीडियो 10

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

इक़बाल बानो

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

अनवर मिर्ज़ापुरी

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

मुन्नी बेगम

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

फ़रीदा ख़ानम

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

उस्उताद म्मीद अली ख़ान

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

अनवर मिर्ज़ापुरी

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

इक़बाल बानो

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

उस्उताद म्मीद अली ख़ान

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

मेहदी हसन

यहाँ काँप जाते हैं फ़लसफ़े ये बड़ा अजीब मक़ाम है

शोमा बनर्जी

रुख़ से पर्दा उठा दे ज़रा साक़िया बस अभी रंग-ए-महफ़िल बदल जाएगा

अनवर मिर्ज़ापुरी

रुख़ से पर्दा उठा दे ज़रा साक़िया बस अभी रंग-ए-महफ़िल बदल जाएगा

जगजीत सिंह

"मिर्ज़ापुर" के और शायर

  • सफ़दर मिर्ज़ापुरी सफ़दर मिर्ज़ापुरी
  • जुबैर आलम जुबैर आलम