Ashfaq Nasir's Photo'

अशफ़ाक़ नासिर

ग़ज़ल 10

शेर 11

शाम होती है तो लगता है कोई रूठ गया

और शब उस को मनाने में गुज़र जाती है

शाम ढलने से फ़क़त शाम नहीं ढलती है

उम्र ढल जाती है जल्दी पलट आना मिरे दोस्त

हिज्र इंसाँ के ख़द-ओ-ख़ाल बदल देता है

कभी फ़ुर्सत में मुझे देखने आना मिरे दोस्त