बाज़ चेहरे बहुत हसीन सही

फिर भी कितनों से दोस्ती की जाए

वो मेरे ख़्वाब ले के सिरहाने खड़ा रहा

मैं सो रही थी उस ने जगाया नहीं मुझे