Aslam Ansari's Photo'

शायर और उर्दू के उस्ताद, ख़्वाजा फ़रीद की काफ़ियों का पद्यात्मक उर्दू अनुवाद भी किया

शायर और उर्दू के उस्ताद, ख़्वाजा फ़रीद की काफ़ियों का पद्यात्मक उर्दू अनुवाद भी किया

असलम अंसारी

ग़ज़ल 18

शेर 12

दीवार-ए-ख़स्तगी हूँ मुझे हाथ मत लगा

मैं गिर पड़ूँगा देख मुझे आसरा दे

जाने वाले को कहाँ रोक सका है कोई

तुम चले हो तो कोई रोकने वाला भी नहीं

  • शेयर कीजिए

ख़फ़ा हो कि तिरा हुस्न ही कुछ ऐसा था

मैं तुझ से प्यार करता तो और क्या करता

  • शेयर कीजिए

किसे कहें कि रिफ़ाक़त का दाग़ है दिल पर

बिछड़ने वाला तो खुल कर कभी मिला ही था

जिसे दरपेश जुदाई हो उसे क्या मालूम

कौन सी बात को किस तरह बयाँ होना है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Khwab Agahi

 

1982

 

"मुल्तान" के और शायर

  • ग़ुलाम हुसैन साजिद ग़ुलाम हुसैन साजिद
  • क़मर रज़ा शहज़ाद क़मर रज़ा शहज़ाद
  • अनवार अंजुम अनवार अंजुम
  • मोहसिन नक़वी मोहसिन नक़वी
  • ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क
  • हिना अंबरीन हिना अंबरीन
  • मुबश्शिर सईद मुबश्शिर सईद
  • रम्ज़ी असीम रम्ज़ी असीम
  • अरशद अब्बास ज़की अरशद अब्बास ज़की
  • आबिद मलिक आबिद मलिक