noImage

आज़र बाराबंकवी

शेर 1

बचपन ने हमें दी है ये शीरीनी-ए-गुफ़्तार

उर्दू नहीं हम माँ की ज़बाँ बोल रहे हैं

  • शेयर कीजिए