noImage

अज़हर लखनवी

1925 | लंदन, यूनाइटेड किंगडम

ग़ज़ल 3

 

शेर 2

ये मोहब्बत का फ़साना भी बदल जाएगा

वक़्त के साथ ज़माना भी बदल जाएगा

एक मंज़िल है मगर राह कई हैं 'अज़हर'

सोचना ये है कि जाओगे किधर से पहले

 

"लंदन" के और शायर

  • शबाना यूसुफ़ शबाना यूसुफ़
  • यावर अब्बास यावर अब्बास
  • परवीन मिर्ज़ा परवीन मिर्ज़ा
  • सय्यद जमील मदनी सय्यद जमील मदनी
  • शाहीन सिद्दीक़ी शाहीन सिद्दीक़ी
  • सय्यद अहसन जावेद सय्यद अहसन जावेद
  • हबीब हैदराबादी हबीब हैदराबादी
  • जौहर ज़ाहिरी जौहर ज़ाहिरी
  • आबिद नामी आबिद नामी
  • मुनीर अहमद देहलवी मुनीर अहमद देहलवी