Aziz Lakhnavi's Photo'

अज़ीज़ लखनवी

1882 - 1935 | लखनऊ, भारत

लखनऊ में क्लासिकी ग़ज़ल के प्रमुख उस्ताद शायर

लखनऊ में क्लासिकी ग़ज़ल के प्रमुख उस्ताद शायर

अज़ीज़ लखनवी

ग़ज़ल 41

नज़्म 5

 

अशआर 58

अपने मरकज़ की तरफ़ माइल-ए-परवाज़ था हुस्न

भूलता ही नहीं आलम तिरी अंगड़ाई का

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे

रोना ख़ुद अपने हाल पे ये ज़ार ज़ार क्या

  • शेयर कीजिए

ख़ुद चले आओ या बुला भेजो

रात अकेले बसर नहीं होती

  • शेयर कीजिए

ज़बान दिल की हक़ीक़त को क्या बयाँ करती

किसी का हाल किसी से कहा नहीं जाता

  • शेयर कीजिए

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं गो है वही बहार

दिल ही उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 27

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए