ग़ज़ल 1

 

शेर 1

आज खेलेंगे मिरे ख़ून से होली सब लोग

कितना रंगीन हर इक शख़्स का दामाँ होगा

 

"लंदन" के और शायर

  • साक़ी फ़ारुक़ी साक़ी फ़ारुक़ी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • फ़र्ख़न्दा रिज़वी फ़र्ख़न्दा रिज़वी
  • अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी
  • जामी रुदौलवी जामी रुदौलवी
  • शबाना यूसुफ़ शबाना यूसुफ़
  • ख़ालिद हसन क़ादिरी ख़ालिद हसन क़ादिरी
  • बख़्श लाइलपूरी बख़्श लाइलपूरी
  • राग़िब देहलवी राग़िब देहलवी