Bismil Saeedi's Photo'

बिस्मिल सईदी

1901 - 1976

क्लासिकी अंदाज़ के प्रमुख शायर / सीमाब अकबरकबादी के शागिर्द

क्लासिकी अंदाज़ के प्रमुख शायर / सीमाब अकबरकबादी के शागिर्द

ग़ज़ल 45

शेर 19

हम ने काँटों को भी नरमी से छुआ है अक्सर

लोग बेदर्द हैं फूलों को मसल देते हैं

  • शेयर कीजिए

सर जिस पे झुक जाए उसे दर नहीं कहते

हर दर पे जो झुक जाए उसे सर नहीं कहते

किया तबाह तो दिल्ली ने भी बहुत 'बिस्मिल'

मगर ख़ुदा की क़सम लखनऊ ने लूट लिया

  • शेयर कीजिए

ख़ुश्बू को फैलने का बहुत शौक़ है मगर

मुमकिन नहीं हवाओं से रिश्ता किए बग़ैर

tho fragrance is very fond, to spread around, increase

this is nigh impossible, till it befriends the breeze

  • शेयर कीजिए

अधर उधर मिरी आँखें तुझे पुकारती हैं

मिरी निगाह नहीं है ज़बान है गोया

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 11

Auraq-e-Zindagi

 

1971

औराक़-ए-ज़िन्दगी

 

1971

Auraq-e-Zindagi

 

1971

Bismil Saeedi

Shakhs Aur Shayar

1976

Bismil Saeedi Apne Watan Mein

 

1966

कैफ़-ए-अलम

 

1953

Kulliyat-e-Bismil Saeedi

 

2007

Mushahidat

 

1960

Mushahidat

 

1960

Nishat-e-Gham

 

1951

चित्र शायरी 1

हम ने काँटों को भी नरमी से छुआ है अक्सर लोग बेदर्द हैं फूलों को मसल देते हैं

 

ऑडियो 8

अब इश्क़ रहा न वो जुनूँ है

इश्क़ जो ना-गहाँ नहीं होता

कब से उलझ रहे हैं दम-ए-वापसीं से हम

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • फ़िराक़ गोरखपुरी फ़िराक़ गोरखपुरी समकालीन
  • जोश मलीहाबादी जोश मलीहाबादी समकालीन
  • अख़्तर शीरानी अख़्तर शीरानी समकालीन
  • सय्यद मोहम्मद जाफ़री सय्यद मोहम्मद जाफ़री समकालीन
  • अब्दुल हमीद अदम अब्दुल हमीद अदम समकालीन
  • जमील मज़हरी जमील मज़हरी समकालीन