noImage

फ़ाएज़ देहलवी

1690 - 1737 | दिल्ली, भारत

मीर से पहले के मशहूर शायर, उर्दू शायरी के संस्थापक

मीर से पहले के मशहूर शायर, उर्दू शायरी के संस्थापक

ग़ज़ल 30

शेर 20

मुझ को औरों से कुछ नहीं है काम

तुझ से हर दम उमीद-वारी है

रात दिन तू रहे रक़ीबाँ-संग

देखना तेरा मुझ मुहाल हुआ

तुझ को है हम से जुदाई आरज़ू

मेरे दिल में शौक़ है दीदार का

गुड़ सीं मीठा है बोसा तुझ लब का

इस जलेबी में क़ंद शक्कर है

  • शेयर कीजिए

वो तमाशा खेल होली का

सब के तन रख़्त-ए-केसरी है याद

मसनवी 1

 

पुस्तकें 5

Deewan-e-Faaiz

 

1946

Faaiz Dehlvi Aur Deewan-e-Faaiz

 

1965

फ़ाइज़ देहलवी और उसका दीवान

 

1946

इंतिख़ाब कलाम-ए-फ़ाइज़

 

1991

Shumali Hind Mein Urdu Ka Pahla Sahab-e-Deewan Shair Faez Dehlvi Aur Uska Deewan

 

1946

 

ऑडियो 5

ख़ूबाँ के बीच जानाँ मुम्ताज़ है सरापा

जब सजीले ख़िराम करते हैं

तुझ बिना दिल को बे-क़रारी है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब
  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द