ग़ज़ल 17

शेर 4

औरत हूँ मगर सूरत-ए-कोहसार खड़ी हूँ

इक सच के तहफ़्फ़ुज़ के लिए सब से लड़ी हूँ

  • शेयर कीजिए

अल्फ़ाज़ आवाज़ हमराज़ दम-साज़

ये कैसे दोराहे पे मैं ख़ामोश खड़ी हूँ

  • शेयर कीजिए

मैं ने इतने ग़ौर से देखा उसे

वो निकल कर गया तस्वीर से

  • शेयर कीजिए

"न्यूयॉर्क" के और शायर

  • फ़रहत नदीम हुमायूँ फ़रहत नदीम हुमायूँ
  • अहमद इरफ़ान अहमद इरफ़ान
  • सबीहा सबा सबीहा सबा
  • खालिद इरफ़ान खालिद इरफ़ान
  • नून मीम दनिश नून मीम दनिश
  • रईस वारसी रईस वारसी
  • ज़फर ज़ैदी ज़फर ज़ैदी