noImage

फ़सीहुल्ला नक़ीब

ग़ज़ल 3

 

शेर 1

अम्न प्रचार तलक ठीक सही लेकिन अम्न

तुम को लगता है कि होगा नहीं होने वाला

 

पुस्तकें 4

नाशुनीदा

कलाम-ए-ग़नी एजाज़

2010

Seepiyan

 

1994

Shakhs-o-Aks

 

2002

Tassurat

 

2017