Figar Unnavi's Photo'

फ़िगार उन्नावी

उन्नाव, भारत

ग़ज़ल 16

शेर 33

उन पे क़ुर्बान हर ख़ुशी कर दी

ज़िंदगी नज़्र-ए-ज़िंदगी कर दी

  • शेयर कीजिए

ग़म-ओ-अलम से जो ताबीर की ख़ुशी मैं ने

बहुत क़रीब से देखी है ज़िंदगी मैं ने

  • शेयर कीजिए

ब-क़द्र-ए-ज़ौक़ मेरे अश्क-ए-ग़म की तर्जुमानी है

कोई कहता है मोती है कोई कहता है पानी है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Harf-o-Nawa

 

2001

 

"उन्नाव" के और शायर

  • रज़ा मौरान्वी रज़ा मौरान्वी
  • अज़ीज़ सफ़ीपुरी अज़ीज़ सफ़ीपुरी