Ghulam Bhik Nairang's Photo'

ग़ुलाम भीक नैरंग

1876 - 1952 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 7

शेर 7

कहते हैं ईद है आज अपनी भी ईद होती

हम को अगर मयस्सर जानाँ की दीद होती

दर्द उल्फ़त का हो तो ज़िंदगी का क्या मज़ा

आह-ओ-ज़ारी ज़िंदगी है बे-क़रारी ज़िंदगी

नाज़ ने फिर किया आग़ाज़ वो अंदाज़-ए-नियाज़

हुस्न-ए-जाँ-सोज़ को फिर सोज़ का दावा है वही

मेरे पहलू में तुम आओ ये कहाँ मेरे नसीब

ये भी क्या कम है तसव्वुर में तो जाते हो

आह! कल तक वो नवाज़िश! आज इतनी बे-रुख़ी

कुछ तो निस्बत चाहिए अंजाम को आग़ाज़ से

पुस्तकें 1

कलाम-ए-नेरंग

 

1983

 

"लाहौर" के और शायर

  • शहज़ाद अहमद शहज़ाद अहमद
  • ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र इक़बाल
  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • अब्बास ताबिश अब्बास ताबिश
  • हफ़ीज़ जालंधरी हफ़ीज़ जालंधरी
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • हबीब जालिब हबीब जालिब
  • अमजद इस्लाम अमजद अमजद इस्लाम अमजद
  • वसी शाह वसी शाह
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील