Ghulam Bhik Nairang's Photo'

ग़ुलाम भीक नैरंग

1876 - 1952 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 7

नज़्म 1

 

शेर 7

दर्द उल्फ़त का हो तो ज़िंदगी का क्या मज़ा

आह-ओ-ज़ारी ज़िंदगी है बे-क़रारी ज़िंदगी

कहते हैं ईद है आज अपनी भी ईद होती

हम को अगर मयस्सर जानाँ की दीद होती

मेरे पहलू में तुम आओ ये कहाँ मेरे नसीब

ये भी क्या कम है तसव्वुर में तो जाते हो

ई-पुस्तक 1

कलाम-ए-नेरंग

 

1983

 

"लाहौर" के और शायर

  • नाहीद क़ासमी नाहीद क़ासमी
  • एजाज़ फ़ारूक़ी एजाज़ फ़ारूक़ी
  • साइमा इसमा साइमा इसमा
  • फरीहा नक़वी फरीहा नक़वी
  • आरिफ़ा शहज़ाद आरिफ़ा शहज़ाद
  • मशकूर हुसैन याद मशकूर हुसैन याद
  • सय्यद अंजुमन जाफ़री सय्यद अंजुमन जाफ़री
  • पुरनम इलाहाबादी पुरनम इलाहाबादी
  • नासिर ज़ैदी नासिर ज़ैदी
  • गुलज़ार बुख़ारी गुलज़ार बुख़ारी

Added to your favorites

Removed from your favorites