noImage

हबीब हैदराबादी

1924 - 1989 | लंदन, यूनाइटेड किंगडम

ग़ज़ल 2

 

शेर 3

इंसान की बुलंदी पस्ती को देख कर

इंसाँ कहाँ खड़ा है हमें सोचना पड़ा

आगे निकल गए थे ज़रा अपने-आप से

हम को 'हबीब' ख़ुद की तरफ़ लौटना पड़ा

'हबीब' इस ज़िंदगी के पेच-ओ-ख़म से हम भी नालाँ हैं

हमें झूटे नगीनों की चमक भाती नहीं शायद

 

पुस्तकें 1

ब्रिटानिया की सियासी जमातें आैर पार्लियामेंट

 

1988

 

चित्र शायरी 1

हम अहल-ए-आरज़ू पे अजब वक़्त आ पड़ा हर हर क़दम पे खेल नया खेलना पड़ा अपना ही शहर हम को बड़ा अजनबी लगा अपने ही घर का हम को पता पूछना पड़ा इंसान की बुलंदी ओ पस्ती को देख कर इंसाँ कहाँ खड़ा है हमें सोचना पड़ा माना कि है फ़रार मगर दिल को क्या करें माज़ी की याद ही में हमें डूबना पड़ा मजबूरियाँ हयात की जब हद से बढ़ गईं हर आरज़ू को पाँव-तले रोंदना पड़ा आगे निकल गए थे ज़रा अपने-आप से हम को 'हबीब' ख़ुद की तरफ़ लौटना पड़ा

 

"लंदन" के और शायर

  • साक़ी फ़ारुक़ी साक़ी फ़ारुक़ी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब
  • जौहर ज़ाहिरी जौहर ज़ाहिरी
  • आमिर अमीर आमिर अमीर
  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • फ़र्ख़न्दा रिज़वी फ़र्ख़न्दा रिज़वी
  • अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी
  • बुलबुल काश्मीरी बुलबुल काश्मीरी
  • बख़्श लाइलपूरी बख़्श लाइलपूरी