Hafeez Banarasi's Photo'

हफ़ीज़ बनारसी

1933 - 2008 | बनारस, भारत

ग़ज़ल 28

नज़्म 1

 

शेर 25

दुश्मनों की जफ़ा का ख़ौफ़ नहीं

दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं

I do nor fear injury from my enemies

what frightens me is my friend's fidelities

I do nor fear injury from my enemies

what frightens me is my friend's fidelities

चले चलिए कि चलना ही दलील-ए-कामरानी है

जो थक कर बैठ जाते हैं वो मंज़िल पा नहीं सकते

  • शेयर कीजिए

गुमशुदगी ही अस्ल में यारो राह-नुमाई करती है

राह दिखाने वाले पहले बरसों राह भटकते हैं

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 6

Darakhshan

 

1969

Ghazalan

 

1984

Qaseeda-e-Nabi-e-Rahmat

 

1993

Qaul-o-Qasam

 

1975

Safeer-e-Shahr-e-Dil

 

2007

Tajalliyat-e-Hafeez

 

2010

 

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
At a mushaira in 1992

हफ़ीज़ बनारसी

Kahin afiat nahi hai

हफ़ीज़ बनारसी

Lahoo ki mai banayi dil ka paiman bana daala

हफ़ीज़ बनारसी

"बनारस" के और शायर

  • दीपक प्रजापती ख़ालिस दीपक प्रजापती ख़ालिस
  • कबीर कबीर
 

Added to your favorites

Removed from your favorites