noImage

हामिद महबूब

शेर 1

चराग़ जलते हैं बाद-ए-सबा महकती है

तुम्हारे हुस्न-ए-तकल्लुम से क्या नहीं होता

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

Adarsh