aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

हनीफ़ साजिद

हनीफ़ साजिद

ग़ज़ल 1

 

अशआर 2

इंक़लाब-ए-सुब्ह की कुछ कम नहीं ये भी दलील

पत्थरों को दे रहे हैं आइने खुल कर जवाब

पत्थरों से कब तलक बाँधेगी उम्मीद-ए-वफ़ा

ज़िंदगी देखेगी कब तक जागती आँखों से ख़्वाब

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए