noImage

हीरा लाल फ़लक देहलवी

दिल्ली, भारत

हीरा लाल फ़लक देहलवी

ग़ज़ल 17

शेर 22

तन को मिट्टी नफ़स को हवा ले गई

मौत को क्या मिला मौत क्या ले गई

  • शेयर कीजिए

अपना घर फिर अपना घर है अपने घर की बात क्या

ग़ैर के गुलशन से सौ दर्जा भला अपना क़फ़स

  • शेयर कीजिए

देखूँगा किस क़दर तिरी रहमत में जोश है

परवरदिगार मुझ को गुनाहों का होश है

  • शेयर कीजिए

रौशनी तेज़ करो चाँद सितारो अपनी

मुझ को मंज़िल पे पहुँचना है सहर होने तक

  • शेयर कीजिए

मिल के सब अम्न-ओ-चैन से रहिए

लानतें भेजिए फ़सादों पर

पुस्तकें 1

Harf-o-Sada

 

1982

 

"दिल्ली" के और शायर

  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द