Ibn e Insha's Photo'

Ibn e Insha

1927 - 1978 | Karachi, Pakistan

Pakistani poet known for his ghazal "kal chaudhanvi ki raat thi, shab bhar raha charcha tera".

Pakistani poet known for his ghazal "kal chaudhanvi ki raat thi, shab bhar raha charcha tera".

Ibn e Insha

Ghazal 30

Nazm 31

Sher-o-Shayari 31

kal chaudhvīñ raat thī shab bhar rahā charchā tirā

kuchh ne kahā ye chāñd hai kuchh ne kahā chehrā tirā

T'was a full moon out last night, all evening there was talk of you

Some people said it was the moon,and some said that it was you

kal chaudhwin ki raat thi shab bhar raha charcha tera

kuchh ne kaha ye chand hai kuchh ne kaha chehra tera

T'was a full moon out last night, all evening there was talk of you

Some people said it was the moon,and some said that it was you

ik saal gayā ik saal nayā hai aane ko

par vaqt ab bhī hosh nahīñ dīvāne ko

ek sal gaya ek sal naya hai aane ko

par waqt ka ab bhi hosh nahin diwane ko

  • Share this

kab lauTā hai bahtā paanī bichhḌā sājan rūThā dost

ham ne us ko apnā jaanā jab tak haath meñ dāmāñ thā

kab lauTa hai bahta pani bichhDa sajan ruTha dost

hum ne us ko apna jaana jab tak hath mein daman tha

  • Share this

raat aa kar guzar bhī jaatī hai

ik hamārī sahar nahīñ hotī

raat aa kar guzar bhi jati hai

ek hamari sahar nahin hoti

apnī zabāñ se kuchh na kaheñge chup raheñge āshiq log

tum se to itnā ho saktā hai pūchho haal bechāroñ

apni zaban se kuchh na kahenge chup hi rahenge aashiq log

tum se to itna ho sakta hai puchho haal bechaaron ka

Quote 11

सच ये है कि काहिली में जो मज़ा है वो काहिल ही जानते हैं। भाग दौड़ करने वाले और सुबह-सुबह उठने वाले और वरज़िश-‏पसंद इस मज़े को क्या जानें।

  • Share this

औसत का मतलब भी लोग ग़लत समझते हैं। हम भी ग़लत समझते थे। जापान में सुना था कि हर दूसरे आदमी ‏के पास कार है। हमने टोकियो में पहले आदमी की बहुत तलाश की लेकिन हमेशा दूसरा ही आदमी मिला। मा'लूम हुआ पहले ‏आदमी दूर-दराज़ के देहात में रहते हैं।

  • Share this

किसी दाना या नादान का मक़ूला है कि झूट के तीन दर्जे हैं। झूट, सफ़ेद झूट और आ'दाद-ओ-शुमार।

  • Share this

दुनिया में ये बहस हमेशा से चली रही है कि अंडा पहले या मुर्ग़ी। कुछ लोग कहते हैं अंडा। कुछ का कहना है मुर्ग़ी।‏ एक को हम मुर्ग़ी स्कूल या फ़िर्क़ा-ए-मुर्गिया कह सकते हैं। दूसरे को अंडा स्कूल। हमें अंडा स्कूल से मुंसलिक‏ समझना चाहिए। मिल्लत-ए-बैज़ा का एक फ़र्द जानना चाहिए। हमारा अ'क़ीदा इस बात में है कि अगर आदमी थानेदार या मौलवी‏ या'नी फ़क़ीह-ए-शहर हो तो उसके लिए मुर्ग़ी पहले और ऐसा ग़रीब-ए-शहर हो तो उसके लिए अंडा पहले और ग़रीब-ए-शहर से भी गया ‏गुज़रा हो तो उसकी दस्तरस मुर्ग़ी तक हो सकती है अंडा उसकी गिरफ़्त में सकता है। उसे अपनी ज़ात और इसकी‏ बक़ा को इन चीज़ों से पहले जानना चाहिए।

  • Share this

जब कोई चीज़ नायाब या महंगी हो जाती है तो उसका बदल निकल ही आता है जैसे भैंस का ने’अम-उल-बदल मूंगफली। आप‏को तो घी से मतलब है। कहीं से भी आए। अब वो मरहला गया है कि हमारे हाँ बकरे और दुंबे की सनअ'त भी‏ क़ाएम हो। आप बाज़ार में गए और दुकानदार ने डिब्बा खोला कि जनाब ये लीजिए बकरा और ये लीजिए पंप से हवा इस में ख़ुद‏ भर लीजिए। खाल इस बकरे की केरेलेन की है। और अंदर कमानियाँ स्टेनलेस स्टील की। मग़्ज़ में फ़ोम रबड़ है। वाश‏ ऐंड वियर होने की गारंटी है। बाहर सेहन में बारिश या ओस में भी खड़ा कर दीजिए तो कुछ बिगड़ेगा। हवा निकाल कर‏ रेफ्रीजरेटर में भी रखा जा सकता है। आजकल क़ुर्बानी वाले यही ले जाते हैं।

  • Share this

Tanz-o-Mazah 31

BOOKS 33

Image Shayari 6

 

Videos 26

This video is playing from YouTube

Playing videos from section
Poet reciting own poetry

Ibn e Insha

Ibn e Insha

Ibn e Insha

darvaaza khulaa rakhnaa

dil dard kii shiddat se KHuu.n-gashta o sii-paara Ibn e Insha

farz karo

farz karo ham ahl-e-vafaa ho.n, farz karo diivaane ho.n Ibn e Insha

kal chaudhvii.n kii raat thii shab bhar rahaa charchaa tiraa

Ibn e Insha

is bastii ke ik kuuche me.n

is bastii ke ik kuuche me.n ik 'inshaa' naam kaa diivaanaa Ibn e Insha

jalva-numaa.ii be-parvaa.ii haa.n yahii riit jahaa.n kii hai

Ibn e Insha

kuchh de ise ruKHsat kar

kuchh de ise ruKHsat kar kyuu.n aa.nkh jhukaa lii hai Ibn e Insha

Audios 18

dekh hamaarii diid ke kaaran kaisaa qaabil-e-diid hu.aa

dil hijr ke dard se bojhal hai ab aan milo to behtar ho

'inshaa'-jii uTho ab kuuch karo is shahr me.n jii ko lagaanaa kyaa

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

RELATED Blog

 

More Poets From "Karachi"

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Speak Now