noImage

इफ़्तिख़ार आज़मी

1935 - 1977

ग़ज़ल 4

 

नज़्म 8

शेर 4

हुस्न यूँ इश्क़ से नाराज़ है अब

फूल ख़ुश्बू से ख़फ़ा हो जैसे

कितना सुनसान है रस्ता दिल का

क़ाफ़िला कोई लुटा हो जैसे

अजब तनाव है माहौल में कहें किस से

कहीं पे आज कोई हादसा हुआ तो नहीं

पुस्तकें 4

अरमुग़ान-ए-हरम

 

1960

कुन

 

1977

Kun

 

1977

ताबिश-ए-सुहेल

 

1958