Imam Bakhsh Nasikh's Photo'

इमाम बख़्श नासिख़

1772 - 1838 | लखनऊ, भारत

लखनऊ के मुम्ताज़ और नई राह बनाने वाले शायर/मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन

लखनऊ के मुम्ताज़ और नई राह बनाने वाले शायर/मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन

ग़ज़ल 42

शेर 47

ज़िंदगी ज़िंदा-दिली का है नाम

मुर्दा-दिल ख़ाक जिया करते हैं

तेरी सूरत से किसी की नहीं मिलती सूरत

हम जहाँ में तिरी तस्वीर लिए फिरते हैं

सियह-बख़्ती में कब कोई किसी का साथ देता है

कि तारीकी में साया भी जुदा रहता है इंसाँ से

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 22

Deewan-e-Nasikh

 

1886

दीवान-ए-नासिख़

खण्ड-001-002

1907

Deewan-e-Nasikh

Part-002

1868

दीवान-ए-नासिख़

 

 

Deewan-e-Nasikh

 

1997

Deewan-e-Nasikh

Part-002

1893

Deewan-e-Nasikh

 

1997

Deewan-e-Nasikh

 

1872

दीवान-ए-नासिख़

खण्ड-002

 

Deewan-e-Nasikh

 

1872

ऑडियो 5

चैन दुनिया में ज़मीं से ता-फ़लक दम भर नहीं

ज़ोर है गर्मी-ए-बाज़ार तिरे कूचे में

सनम कूचा तिरा है और मैं हूँ

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर शिष्य
  • रासिख़ अज़ीमाबादी रासिख़ अज़ीमाबादी समकालीन
  • मह लक़ा चंदा मह लक़ा चंदा समकालीन
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • इश्क़ औरंगाबादी इश्क़ औरंगाबादी
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • अब्दुल रहमान एहसान देहलवी अब्दुल रहमान एहसान देहलवी
  • मह लक़ा चंदा मह लक़ा चंदा