noImage

इमदाद अली बहर

1810 - 1878 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 86

शेर 80

आँखें जीने देंगी तिरी बे-वफ़ा मुझे

क्यूँ खिड़कियों से झाँक रही है क़ज़ा मुझे

  • शेयर कीजिए

बनावट वज़्अ'-दारी में हो या बे-साख़्ता-पन में

हमें अंदाज़ वो भाता है जिस में कुछ अदा निकले

  • शेयर कीजिए

कौसर का जाम उस को इलाही नसीब हो

कोई शराब मेरी लहद पर छिड़क गया

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Riyaz-ul-Bahr

 

1837

 

संबंधित शायर

  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर समकालीन
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब समकालीन
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी समकालीन
  • इमाम बख़्श नासिख़ इमाम बख़्श नासिख़ गुरु
  • हातिम अली मेहर हातिम अली मेहर समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • मीर हसन मीर हसन
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • रिन्द लखनवी रिन्द लखनवी