Iqbal Safi Puri's Photo'

इक़बाल सफ़ी पूरी

1916 - 1999

ग़ज़ल 5

 

शेर 4

मिरे लबों का तबस्सुम तो सब ने देख लिया

जो दिल पे बीत रही है वो कोई क्या जाने

कोई समझाए कि क्या रंग है मयख़ाने का

आँख साक़ी की उठे नाम हो पैमाने का

  • शेयर कीजिए

चश्म-ए-साक़ी मुझे हर गाम पे याद आती है

रास्ता भूल जाऊँ कहीं मयख़ाने का

  • शेयर कीजिए