noImage

इज़हार सलीम

शेर 1

सूने सूने से दरीचों से उदासी झाँके

क्या अजब ख़ौफ़ है चेहरे भी किसी दर में नहीं

  • शेयर कीजिए