noImage

जलील निज़ामी

ग़ज़ल 1

 

शेर 1

माह-ए-नौ देखने तुम छत पे जाना हरगिज़

शहर में ईद की तारीख़ बदल जाएगी

  • शेयर कीजिए