noImage

जुरअत क़लंदर बख़्श

1748 - 1809 | लखनऊ, भारत

अपनी शायरी में महबूब के साथ मामला-बंदी के मज़मून के लिए मशहूर, नौजवानी में नेत्रहीन हो गए

अपनी शायरी में महबूब के साथ मामला-बंदी के मज़मून के लिए मशहूर, नौजवानी में नेत्रहीन हो गए

ग़ज़ल 78

शेर 128

इलाही क्या इलाक़ा है वो जब लेता है अंगड़ाई

मिरे सीने में सब ज़ख़्मों के टाँके टूट जाते हैं

  • शेयर कीजिए

मिल गए थे एक बार उस के जो मेरे लब से लब

उम्र भर होंटों पे अपने मैं ज़बाँ फेरा किए

लब-ए-ख़याल से उस लब का जो लिया बोसा

तो मुँह ही मुँह में अजब तरह का मज़ा आया

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 1

 

लतीफ़े 1

 

पुस्तकें 4

Deewan Jur'at

 

1912

कुल्लियात-ए-जुर्अत

खण्ड-001

1968

मुंतख़ब दीवान-ए-जुरअत

गुलदस्ता-ए- मसर्रत

1868

Qalandar Bakhsh Jurat

 

1990

 

चित्र शायरी 2

दिल-ए-वहशी को ख़्वाहिश है तुम्हारे दर पे आने की दिवाना है व-लेकिन बात करता है ठिकाने की

अब इश्क़ तमाशा मुझे दिखलाए है कुछ और कहता हूँ कुछ और मुँह से निकल जाए है कुछ और नासेह की हिमाक़त तो ज़रा देखियो यारो समझा हूँ मैं कुछ और मुझे समझाए है कुछ और क्या दीदा-ए-ख़ूँ-बार से निस्बत है कि ये अब्र बरसाए है कुछ और वो बरसाए कुछ और रोने दे, हँसा मुझ को न हमदम कि तुझे अब कुछ और ही भाता है मुझे भाए है कुछ और पैग़ाम-बर आया है ये औसान गँवाए पूछूँ हूँ मैं कुछ और मुझे बतलाए है कुछ और 'जुरअत' की तरह मेरे हवास अब नहीं बर जा कहता हूँ कुछ और मुँह से निकल जाए है कुछ और

 

ऑडियो 6

ऐ दिला हम हुए पाबंद-ए-ग़म-ए-यार कि तू

इतना बतला मुझे हरजाई हूँ मैं यार कि तू

ऐ दिला हम हुए पाबंद-ए-ग़म-ए-यार कि तू

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर समकालीन
  • जाफ़र अली हसरत जाफ़र अली हसरत गुरु
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • रंगीन सआदत यार ख़ाँ रंगीन सआदत यार ख़ाँ
  • इमाम बख़्श नासिख़ इमाम बख़्श नासिख़
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मिर्ज़ा शौक़ लखनवी मिर्ज़ा शौक़ लखनवी
  • गोया फ़क़ीर मोहम्मद गोया फ़क़ीर मोहम्मद
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी
  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर