noImage

काज़मी बानो ज़िया

बहुत है अपने यक़ीं ही का आसरा फिर भी

तेरी नज़र का सहारा तलाश करती हूँ