Khalid Mubashshir's Photo'

ख़ालिद मुबश्शिर

1980 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 14

नज़्म 3

 

शेर 5

मुझे शक है होने होने पे 'ख़ालिद'

अगर हूँ तो अपना पता चाहता हूँ

मिरी वहशतों का सबब कौन समझे

कि मैं गुम-शुदा क़ाफ़िला चाहता हूँ

कहीं राँझा, कहीं मजनूँ हुआ

वजूद-ए-इश्क़ आलमगीर है

संबंधित शायर

  • शहराम सर्मदी शहराम सर्मदी समकालीन
  • सरफ़राज़ ख़ालिद सरफ़राज़ ख़ालिद समकालीन
  • ख़ालिद महमूद ख़ालिद महमूद गुरु
  • सालिम सलीम सालिम सलीम समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • मोहम्मद अज़हर शम्स मोहम्मद अज़हर शम्स
  • मधुवन ऋषि राज मधुवन ऋषि राज
  • सुरेन्द्र शजर सुरेन्द्र शजर
  • अंकित गौतम अंकित गौतम
  • वसीम अकरम वसीम अकरम
  • ज़मर्रुद मुग़ल ज़मर्रुद मुग़ल
  • रहमान मुसव्विर रहमान मुसव्विर
  • उर्मिलामाधव उर्मिलामाधव
  • अशोक साहनी साहिल अशोक साहनी साहिल
  • अजमल सिद्दीक़ी अजमल सिद्दीक़ी