noImage

ख़ालिद यूसुफ़

1940 | लंदन, यूनाइटेड किंगडम

ग़ज़ल 13

शेर 4

ये अदाएँ ये इशारे ये हसीं क़ौल-ओ-क़रार

कितने आदाब के पर्दे में है इंकार की बात

उसे ख़बर है कि अंजाम-ए-वस्ल क्या होगा

वो क़ुर्बतों की तपिश फ़ासले में रखती है

हम ने माना कि तिरे शहर में सब अच्छा है

कोई ईसा हो तो मिल जाएँगे बीमार बहुत

ई-पुस्तक 1

 

"लंदन" के और शायर

  • अतहर राज़ अतहर राज़
  • अख़्तर ज़ियाई अख़्तर ज़ियाई
  • सय्यद आशूर काज़मी सय्यद आशूर काज़मी
  • सुल्तान गौरी सुल्तान गौरी
  • शोहरत बुख़ारी शोहरत बुख़ारी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • यशब तमन्ना यशब तमन्ना
  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • मीर बशीर मीर बशीर
  • शबाना यूसुफ़ शबाना यूसुफ़