लता हया के संपूर्ण

ग़ज़ल 5

 

शेर 5

लोग नफ़रत की फ़ज़ाओं में भी जी लेते हैं

हम मोहब्बत की हवा से भी डरा करते हैं

क़िस्मत अजीब खेल दिखाती चली गई

जो हँस रहे थे उन को रुलाती चली गई

जिसे पढ़ा नहीं तुम ने कभी मोहब्बत से

किताब-ए-ज़ीस्त का वो बाब हैं मिरे आँसू

तीरगी ख़ामुशी बेबसी तिश्नगी

हिज्र की रात में ख़ामियाँ ख़ामियाँ

मैं तो मुश्ताक़ हूँ आँधी में भी उड़ने के लिए

मैं ने ये शौक़ अजब दिल को लगा रक्खा है

पुस्तकें 1

Lata Se Haya Tak

 

2013

 

"मुंबई" के और शायर

  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली
  • अली सरदार जाफ़री अली सरदार जाफ़री
  • अख़्तरुल ईमान अख़्तरुल ईमान
  • अब्दुल अहद साज़ अब्दुल अहद साज़
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी
  • ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर
  • स्वप्निल तिवारी स्वप्निल तिवारी
  • राजेश रेड्डी राजेश रेड्डी
  • फ़ुज़ैल जाफ़री फ़ुज़ैल जाफ़री
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर