noImage

लुत्फ़ हारूनी

लुत्फ़ हारूनी

शेर 1

जाते जाते उन का रुकना और मुड़ कर देखना

जाग उट्ठा आह मेरा दर्द-ए-तन्हाई बहुत

  • शेयर कीजिए