noImage

महताब राय ताबां

शेर 1

दिल के फफूले जल उठे सीने के दाग़ से

इस घर को आग लग गई घर के चराग़ से