मंसूरा अहमद

ग़ज़ल 5

 

शेर 2

मैं उस को खो के भी उस को पुकारती ही रही

कि सारा रब्त तो आवाज़ के सफ़र का था

अजीब वजह-ए-मुलाक़ात थी मिरी उस से

कि वो भी मेरी तरह शहर में अकेला था

 

पुस्तकें 2

Rah Rau

 

1989

Tuloo

 

1997

 

संबंधित शायर

  • नाहीद क़ासमी नाहीद क़ासमी बहन
  • अहमद नदीम क़ासमी अहमद नदीम क़ासमी पिता

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • अहमद फ़राज़ अहमद फ़राज़
  • इफ़्तिख़ार आरिफ़ इफ़्तिख़ार आरिफ़
  • ऐतबार साजिद ऐतबार साजिद
  • ज़िया जालंधरी ज़िया जालंधरी
  • एजाज़ गुल एजाज़ गुल
  • अकबर हमीदी अकबर हमीदी
  • हारिस ख़लीक़ हारिस ख़लीक़
  • तारिक़ नईम तारिक़ नईम
  • नूर बिजनौरी नूर बिजनौरी
  • तौसीफ़ तबस्सुम तौसीफ़ तबस्सुम