ग़ज़ल 19

शेर 2

अच्छी क़िस्मत अच्छा मौसम अच्छे लोग

फिर भी दिल घबरा जाता है बाज़ औक़ात

उस के अस्बाब से निकला है परेशाँ काग़ज़

बात इतनी थी मगर ख़ूब उछाली हम ने

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • अहमद फ़राज़ अहमद फ़राज़
  • ऐतबार साजिद ऐतबार साजिद
  • जोश मलीहाबादी जोश मलीहाबादी
  • इफ़्तिख़ार आरिफ़ इफ़्तिख़ार आरिफ़
  • सय्यद ज़मीर जाफ़री सय्यद ज़मीर जाफ़री
  • सरफ़राज़ ज़ाहिद सरफ़राज़ ज़ाहिद
  • ज़िया जालंधरी ज़िया जालंधरी
  • किश्वर नाहीद किश्वर नाहीद
  • हारिस ख़लीक़ हारिस ख़लीक़
  • नूर बिजनौरी नूर बिजनौरी