Marghoob Ali's Photo'

मरग़ूब अली

1952 | नजीबाबाद, भारत

ग़ज़ल 14

शेर 11

भीगी मिट्टी की महक प्यास बढ़ा देती है

दर्द बरसात की बूँदों में बसा करता है

  • शेयर कीजिए

मुझ को बर्बाद ख़ुद ही होना था

तुम पे इल्ज़ाम बे-सबब आए

  • शेयर कीजिए

वस्ल का गुल सही हिज्र का काँटा ही सही

कुछ कुछ तो मिरी वहशत का सिला दे मुझ को

ई-पुस्तक 4

Aadhi Raat Ki Shabnam

 

2001

Faiz Ahmad Faiz: Ahwal-o-Afkar

 

2013

Meera Ji Ki Nazmein

 

1990

Safar Kahani

 

2007

 

"नजीबाबाद" के और शायर

  • राम अवतार गुप्ता मुज़्तर राम अवतार गुप्ता मुज़्तर
 

Added to your favorites

Removed from your favorites