Mashkoor Husain Yaad's Photo'

मशकूर हुसैन याद

1925 - 2017 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 6

शेर 8

बेहतर है कि अब ख़ुद से जुदा हो के भी देखें

दरिया में तो दरिया का हवाला नहीं मिलता

नक़ाब उठाओ तो हर शय को पाओगे सालिम

ये काएनात ब-तौर-ए-हिजाब टूटती है

ख़ुश हो आँसुओं की बारिश पर

बर्क़ है चश्म-ए-तर के पहलू में

आला में तो अदना के हवाले ही हवाले

अदना ही में आला का हवाला नहीं मिलता

उम्र गुज़री सफ़र के पहलू में

ख़ूब से ख़ूब-तर के पहलू में

पुस्तकें 8

Bardasht

 

2004

ग़ालिब बोतीक़ा

अशआर-ए-ग़ालिब की तफ़्हीम

2003

Ghalib Ki Taba-e-Nukta Joo

 

2000

Goongi Nazmein

 

1987

Meer Anees Ki Shairana Baseerat

 

2003

Meer-e-Balanosh

 

2001

Meer-e-Balanosh

 

2001

Mutala-e-Dabeer

 

2003

 

"लाहौर" के और शायर

  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र इक़बाल
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • अब्बास ताबिश अब्बास ताबिश
  • फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
  • हफ़ीज़ जालंधरी हफ़ीज़ जालंधरी
  • अहमद नदीम क़ासमी अहमद नदीम क़ासमी
  • एहसान दानिश एहसान दानिश
  • जावेद शाहीन जावेद शाहीन
  • अख़्तर शीरानी अख़्तर शीरानी