Meer Khaleeq's Photo'

मीर ख़लीक़

1766 - 1844 | लखनऊ, भारत

मीर ख़लीक़

ग़ज़ल 3

 

अशआर 4

मिस्ल-ए-आईना है उस रश्क-ए-क़मर का पहलू

साफ़ इधर से नज़र आता है उधर का पहलू

  • शेयर कीजिए

सर झुका लेता है लाला शर्म से

जब जिगर के दाग़ दिखलाते हैं हम

  • शेयर कीजिए

नज़्अ' में गर मिरी बालीं पे तू आया होता

इस तरह अश्क मैं आँखों में लाया होता

  • शेयर कीजिए

ग़फ़लत में फ़र्क़ अपनी तुझ बिन कभू आया

हम आप के आए जब तक कि तू आया

  • शेयर कीजिए

मर्सिया 1

 

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए