noImage

मीर ताहिर अली रिज़वी

1840 - 1911 | फ़र्रूख़ाबाद, भारत

मीर ताहिर अली रिज़वी

अशआर 1

मकतब-ए-इश्क़ का दस्तूर निराला देखा

उस को छुट्टी मिले जिस को सबक़ याद रहे

  • शेयर कीजिए
 

चित्र शायरी 1

 

"फ़र्रूख़ाबाद" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए