noImage

मिर्ज़ा अज़ीम बेग 'अज़ीम'

शेर 1

शह-ज़ोर अपने ज़ोर में गिरता है मिस्ल-ए-बर्क़

वो तिफ़्ल क्या गिरेगा जो घुटनों के बल चले

 

चित्र शायरी 1

शह-ज़ोर अपने ज़ोर में गिरता है मिस्ल-ए-बर्क़ वो तिफ़्ल क्या गिरेगा जो घुटनों के बल चले

 

संबंधित शायर

  • मोहम्मद रफ़ी सौदा मोहम्मद रफ़ी सौदा गुरु
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा अल्लाह ख़ान समकालीन