noImage

मिर्ज़ा मासिता बेग मुंतही

ग़ज़ल 25

शेर 34

है ख़ुशी अपनी वही जो कुछ ख़ुशी है आप की

है वही मंज़ूर जो कुछ आप को मंज़ूर हो

  • शेयर कीजिए

यूँ इंतिज़ार-ए-यार में हम उम्र भर रहे

जैसे नज़र ग़रीब की अल्लाह पर रहे

  • शेयर कीजिए

उमीद है हमें फ़र्दा हो या पस-ए-फ़र्दा

ज़रूर होएगी सोहबत वो यार बाक़ी है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Karistan-e-Fasahat

 

1893