Munawwar Rana's Photo'

मुनव्वर राना

1952 | लखनऊ, भारत

लोकप्रिय शायर, मुशायरों का ज़रूरी हिस्सा।

लोकप्रिय शायर, मुशायरों का ज़रूरी हिस्सा।

ग़ज़ल 43

शेर 65

अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो

तुम मुझे ख़्वाब में कर परेशान करो

  • शेयर कीजिए

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो

तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है

  • शेयर कीजिए

चलती फिरती हुई आँखों से अज़ाँ देखी है

मैं ने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है

  • शेयर कीजिए

अभी ज़िंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा

मैं घर से जब निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है

  • शेयर कीजिए

एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है

तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना

उद्धरण 39

अस्पताल की लिफ़्ट भी इतनी सुस्त-रफ़्तार होती है कि बजाए बिजली के ऑक्सीजन से चलती हुई महसूस होती है।

  • शेयर कीजिए

नींद तो उस नाज़ुक-मिज़ाज बच्ची की तरह है जो सबकी गोद में नहीं जाती।

  • शेयर कीजिए

डॉक्टर और क़साई दोनों काट-पीट करते हैं लेकिन एक ज़िंदगी बचाने के लिए ये सब करता है जब्कि दूसरा ज़िंदगी को ख़त्म करने के लिए।

  • शेयर कीजिए

शादी के घर में सुकून ढूँढना रेलवे स्टेशन पर अस्ली मिनरल वाटर ढूँढने की तरह होता है।

  • शेयर कीजिए

गाँव में किसी को पानी पिलाने से पहले मिठाई नहीं तो कम-अज़-कम गुड़ ज़रूर पेश किया जाता है। जब कि शहरों में पानी पच्चीस पैसे फ़ी-गिलास मिलता है। ये फ़र्क़ होता है कुँए के मीठे पानी और शहर के पाइपों के पानी में।

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 16

Baghair Naqshe Ka Makan

 

2001

Chehre Yaad Rahte Hain

 

2007

Jangali Phool

 

2007

Kaho Zille Ilahi Se

 

2011

कहो ज़िल्ले इलाही से

 

2001

Maa

 

2012

Maan

 

 

Muhajir Nama

 

2010

Qaamat

Munawwar Rana Ke Fikr-o-Fun Par Manzoom Izhar-e-Khayalaat

2008

Safed Jangali Kabootar

 

2005

चित्र शायरी 9

मोहब्बत एक पाकीज़ा अमल है इस लिए शायद सिमट कर शर्म सारी एक बोसे में चली आई

लिपट जाता हूँ माँ से और मौसी मुस्कुराती है मैं उर्दू में ग़ज़ल कहता हूँ हिन्दी मुस्कुराती है

अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो तुम मुझे ख़्वाब में आ कर न परेशान करो

ये ऐसा क़र्ज़ है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता में जब तक घर न लौटूँ मेरी माँ सज्दे में रहती है

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है रहते रहते स्टेशन पर लोग क़ुली हो जाते हैं

अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो तुम मुझे ख़्वाब में आ कर न परेशान करो

किसी के ज़ख़्म पर चाहत से पट्टी कौन बाँधेगा अगर बहनें नहीं होंगी तो राखी कौन बाँधेगा

 

वीडियो 38

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
हास्य वीडियो
चराग़ों को उछाला जा रहा है

मुनव्वर राना

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए

मुनव्वर राना

संबंधित शायर

  • शायर जमाली शायर जमाली समकालीन
  • मेराज फ़ैज़ाबादी मेराज फ़ैज़ाबादी समकालीन
  • वसीम बरेलवी वसीम बरेलवी समकालीन
  • साग़र आज़मी साग़र आज़मी समकालीन
  • अब्बास अली ख़ान बेखुद अब्बास अली ख़ान बेखुद गुरु
  • राहत इंदौरी राहत इंदौरी समकालीन
  • अनवर जलालपुरी अनवर जलालपुरी समकालीन
  • ताहिर फ़राज़ ताहिर फ़राज़ समकालीन
  • जावेद अख़्तर जावेद अख़्तर समकालीन
  • वाली आसी वाली आसी गुरु

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मीर हसन मीर हसन
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़