दर्द की लहर में ज़िंदगी बह गई

उम्र यूँ कट गई हिज्र की शाम में

आख़िरी बार आया था मिलने कोई

हिज्र मुझ को मिला वस्ल की शाम में