noImage

नजमा तसद्दुक़

1917

शेर 1

कभी दुनिया के अंदर कुछ नज़र आता नहीं मुझ को

कभी अपने ही अंदर एक दुनिया देख लेती हूँ

  • शेयर कीजिए