Naseem Shahjahanpuri's Photo'

नसीम शाहजहाँपुरी

1937 | शाहजहाँपुर, भारत

नसीम शाहजहाँपुरी

ग़ज़ल 10

शेर 5

तन्हाई के लम्हात का एहसास हुआ है

जब तारों भरी रात का एहसास हुआ है

वो ज़ुल्म भी अब ज़ुल्म की हद तक नहीं करते

आख़िर उन्हें किस बात का एहसास हुआ है

सर-ए-महशर अगर पुर्सिश हुई मुझ से तो कह दूँगा

सरापा जुर्म हूँ अश्क-ए-नदामत ले के आया हूँ

मैं ने माना आप ने सब कुछ भुला डाला मगर

ग़ैर-मुमकिन है कभी मेरा ख़याल आता हो

कुछ ख़ुद भी हूँ मैं इश्क़ में अफ़्सुर्दा ग़मगीं

कुछ तल्ख़ी-ए-हालात का एहसास हुआ है

ऑडियो 8

इस लिए जफ़ाओं पर मुझ को मुस्कुराना था

एक धुँदला सा सितारा भी बहुत होता है

किसी के इश्क़ में ये हाल-ए-ज़ार रहता है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"शाहजहाँपुर" के और शायर

  • पंडित जगमोहन नाथ रैना शौक़ पंडित जगमोहन नाथ रैना शौक़
  • रशीद शाहजहाँपुरी रशीद शाहजहाँपुरी
  • रविश सिद्दीक़ी रविश सिद्दीक़ी
  • अख़तर शाहजहाँपुरी अख़तर शाहजहाँपुरी
  • ताहिर तिलहरी ताहिर तिलहरी
  • रौनक़ रज़ा रौनक़ रज़ा
  • दिल शाहजहाँपुरी दिल शाहजहाँपुरी
  • सिराज फ़ैसल ख़ान सिराज फ़ैसल ख़ान
  • साजिद सफ़दर साजिद सफ़दर
  • सय्यदा शान-ए-मेराज सय्यदा शान-ए-मेराज