Nazm Tabatabai's Photo'

नज़्म तबातबाई

1854 - 1933 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 26

शेर 20

बिछड़ के तुझ से मुझे है उमीद मिलने की

सुना है रूह को आना है फिर बदन की तरफ़

उड़ाई ख़ाक जिस सहरा में तेरे वास्ते मैं ने

थका-माँदा मिला इन मंज़िलों में आसमाँ मुझ को

नशा में सूझती है मुझे दूर दूर की

नद्दी वो सामने है शराब-ए-तुहूर की

  • शेयर कीजिए

बनाया तोड़ के आईना आईना-ख़ाना

देखी राह जो ख़ल्वत से अंजुमन की तरफ़

अपनी दुनिया तो बना ली थी रिया-कारों ने

मिल गया ख़ुल्द भी अल्लाह को फुसलाने से

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 11

दीवान-ए-तबातबाई

सौत-ए-तग़ज़ुल

1933

Deewan-e-Tabatabai

 

1933

इसलाहात-ए-ग़ालिब

 

1966

Marasi-e-Anees

Volume-002

1936

Marasi-e-Anees

Volume-001

1935

Marasi-e-Anees

खण्ड-003

1930

Nazm Tabatabai

भाग-001

 

Nazm Taba-Tabai: Hayat Aur Karnamon Ka Tanqeedi Mutala

 

1973

Sharh-e-Deewan-e-Urdu-e-Ghalib

 

2012

Sharh-e-Deewan-e-Urdu-e-Ghalib

 

 

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • मुनव्वर राना मुनव्वर राना
  • अज़ीज़ लखनवी अज़ीज़ लखनवी
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • रिन्द लखनवी रिन्द लखनवी